Lingashtakam Lyrics in Hindi लिङ्गाष्टकम्

लिङ्गाष्टकम् भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए आठ छंदों का एक काव्य है। इसके नियमित पाठ से भगवन शिव की कृपा प्राप्त होती है और मन भक्ति मार्ग में रमने लगता है। भगवान शिव को शीघ्र प्रसन्न करने के लिए लिङ्गाष्टकम् का पाठ अवश्य करें।

Subscribe Bhakti Ocean YouTube Channel

ब्रह्ममुरारिसुरार्चितलिङ्गं निर्मलभासितशोभितलिङ्गम् ।
जन्मजदुःखविनाशकलिङ्गं तत् प्रणमामि सदाशिवलिङ्गम् ॥१॥

देवमुनिप्रवरार्चितलिङ्गं कामदहं करुणाकरलिङ्गम् ।
रावणदर्पविनाशनलिङ्गं तत् प्रणमामि सदाशिवलिङ्गम् ॥२॥

सर्वसुगन्धिसुलेपितलिङ्गं बुद्धिविवर्धनकारणलिङ्गम् ।
सिद्धसुरासुरवन्दितलिङ्गं तत् प्रणमामि सदाशिवलिङ्गम् ॥३॥

कनकमहामणिभूषितलिङ्गं फणिपतिवेष्टितशोभितलिङ्गम् ।
दक्षसुयज्ञविनाशनलिङ्गं तत् प्रणमामि सदाशिवलिङ्गम् ॥४॥

कुङ्कुमचन्दनलेपितलिङ्गं पङ्कजहारसुशोभितलिङ्गम् ।
सञ्चितपापविनाशनलिङ्गं तत् प्रणमामि सदाशिवलिङ्गम् ॥५॥

देवगणार्चितसेवितलिङ्गं भावैर्भक्तिभिरेव च लिङ्गम् ।
दिनकरकोटिप्रभाकरलिङ्गं तत् प्रणमामि सदाशिवलिङ्गम् ॥६॥

अष्टदलोपरिवेष्टितलिङ्गं सर्वसमुद्भवकारणलिङ्गम् ।
अष्टदरिद्रविनाशितलिङ्गं तत् प्रणमामि सदाशिवलिङ्गम् ॥७॥

सुरगुरुसुरवरपूजितलिङ्गं सुरवनपुष्पसदार्चितलिङ्गम् ।
परात्परं परमात्मकलिङ्गं तत् प्रणमामि सदाशिवलिङ्गम् ॥८॥

लिङ्गाष्टकमिदं पुण्यं यः पठेत् शिवसन्निधौ।
शिवलोकमवाप्नोति शिवेन सह मोदते॥

Lingashtakam Lyrics in Hindi- भगवान शिव की स्तुति करने के लिए लिङ्गाष्टकम् सबसे अच्छा भजन/ काव्य है। जब भी मन में किसी प्रकार का दुःख क्लेश घर कर जाए तो इस लिङ्गाष्टकम् का पाठ करें। इससे आपके मन को सुख शांति और शक्ति मिलेगी तथा आप बड़ी से बड़ी बाधा को भी पार कर सकते हैं।

धार्मिक जानकारियों, भजन और वैदिक मंत्र के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके भक्ति ओसियन का यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें।

Subscribe Bhakti Ocean YouTube Channel

Also Read

साई कष्ट निवारण मंत्र की महिमा

माँ दुर्गा मंत्र जो शीघ्र फल देते हैं

मुंडेश्वरी देवी मंदिर जहाँ बलि चढाने के बाद भी नहीं जाती बकरे की जान

छात्रों के लिए शक्तिशाली मंत्र

शेयर करें

Leave a Comment