साईं बाबा का इतिहास Sai Baba History in Hindi

Sai Baba History in Hindi – जानिए साई बाबा कौन थे, उनके माता पिता कौन थे, उनका जन्म कहाँ हुआ था और उनके जीवन से जुड़े आश्चर्य जनक तथ्य। इस लेख में आपको शिरडी साईं की हकीकत के बारे में वो सब कुछ जानने को मिलेगा जिसके बारे में एक साई भक्त को ज़रूर पता होना चाहिए।

साईं बाबा का इतिहास Sai Baba History in Hindi

आइये अब साई बाबा का इतिहास समझते हैं और उनके जीवन के विभिन्न पहलुओं पर एक नज़र डालते हैं।

साईं बाबा की जीवनी

साईं बाबा की जीवनी बहुत ही सामान्य थी। उन्होंने जीवन भर एक आम मनुष्य की तरह अपना जीवन व्यतीत किया और शिरडी के लोगों के दुःख दर्द दूर करते रहे। साई बाबा ने कभी धन संचय नहीं किया, उन्हें जो भी चढ़ावा या दान में मिलता था उसे वो उसी दिन लोगों में वितरित कर देते थे।

बाबा का ऐसा मानना था की एक संत को धन संग्रह बिलकुल नहीं करना चाहिए इससे अध्यात्म की राह में बाधा उत्पन्न हो जाती है। एक साधारण मनुष्य के रूप में किये गए उनके कार्य अत्यंत ही सराहनीय हैं।

साईं बाबा किसके अवतार है

साई बाबा ने जीवन भर दीन दुखियों की सहायता की इस वजह से उन्हें लोग देवता समान पूजने लगे। कई लोग साई बाबा को भगवान शिव का अवतार मानते हैं वही कुछ लोग उन्हें भगवान विष्णु या हनुमान जी का अवतार मानते हैं। महाराष्ट्र के स्थानीय निवासी उन्हें भगवान खंडोबा का अवतार मानते हैं जिनका देवस्थान जो महाराष्ट्र के पुणे जिले में जेजुरी शहर में स्थित है।

साईं बाबा के माता पिता का नाम

इस बारे में बहुत सारे विचार हैं और कई लोगों का कहना है की साईबाबा के माता पिता कौन थे ये ठीक ठीक ज्ञात नहीं है। लेकिन एक सुप्रसिद्ध साई भक्त और लेखक शशिकांत शांताराम गडकरी ने अपनी किताब सद्‍गुरु सांई दर्शन में लिखा है की साई बाबा ब्राह्मण थे। साई बाबा के पिता का नाम गंगाभाऊ और उनकी माँ का नाम देवकीगिरी था।

साईं बाबा का असली नाम क्या था?

साई दर्शन किताब के अनुसार साई बाबा का असली नाम हरिबाबू भूसारी था। साईबाबा की माता दे‍वकिगिरी के पांच पुत्र थे। उनके नाम क्रमशः रघुपत भुसारी, दादा भूसारी, हरिबाबू भुसारी, अम्बादास भुसारी और बालवंत भुसारी थे। साई बाबा उनकी तीसरी संतान थे।

साईं बाबा हिंदू है या मुसलमान?

सही मायने में देखा जाये तो इस बारे में लोगों की अलग अलग राय है लेकिन ज़्यादातर सूत्र इस तरफ इशारा करते हैं की बाबा का जन्म एक हिन्दू परिवार में हुआ था।

साई बाबा चमत्कार

साई बाबा की जीवनी चमत्कारों से भरी पड़ी है। बाबा ने सदैव लोगों का भला किया और उनके चमत्कारों की चर्चा देश दुनिया तक फैलती चली गयी। इनमे कुछ मुख्य चमत्कार इस प्रकार हैं।

  • पानी से दिया जलाना
  • सांप का ज़हर उतरना
  • धूनी में हाथ डालके बच्चे के प्राण बचाना
  • आटा छिड़ककर शिरडी को हैजा से बचाना
  • नीम के कड़वे फल का मीठा हो जाना
  • बाबा द्वारा सूखे कुवें को पानी से लबालब भर देना

साईं बाबा की मृत्यु कैसे हुई

शिर्डी के साईं बाबा ने 15 अक्टूबर 1918 को समाधी ली थी उस दिन दशहरा भी था। साईंबाबा ने पहले ही संकेत दे दिया था की वो दशहरे के दिन समाधी लेने वाले हैं। बाबा का ऐसा मानना था की दशहरे का दिन देहत्याग के लिए सबसे उत्तम है। बाबा ने मृत्य से पूर्व धार्मिक ग्रन्थ सुनने की इच्छा जाहिर की थी।

उन्होंने वझे नाम के एक भक्त से राम विजय प्रकरण पढ़कर सुनाने को कहा था। बाबा का अंतिम संस्कार हिन्दू और मुसलमान अपने अपने रीति रिवाज के अनुसार करना चाहते थें। इस वजह से सरकारी अधिकारीयों के मौजूदगी में शिरडी में वोटिंग करवाई गई इसमें हिन्दू पक्ष से दाह संस्कार करवाने को ज़्यादा वोट मिले थे।

इसके बाद ये सुनुश्चित हुआ की बाबा का दाह संस्कार हिन्दू रीति रिवाज से किया जायेगा। बाबा ने अगस्त 1918 को ही इस बात की आशंका जाता दी थी की उनकी मृत्यु समीप है। सितम्बर 1918 में बाबा को तेज बुखार रहने लगा और बाबा ने खाना पीना भी बहुत काम कर दिया और आखिरकार 15 अक्टूबर, 1918 को साईं बाबा ने शरीर त्याग दिया।

Shirdi Sai Baba Temple शिरडी साई बाबा मंदिर

शिरडी साई बाबा मंदिर Sai Baba Temple Shirdi Maharashtra साई बाबा का एक प्रसिद्ध साई मंदिर है। साई बाबा ने सारी उम्र शिरडी में निवास किया और जिस स्थान पर साई बाबा ने शरीर त्याग किया आज वही साई बाबा की समाधी बना दी गयी है। साई बाबा के समाधिस्थल को ही आज हम साई बाबा के मंदिर के नाम से जानते हैं।

साई बाबा के मंदिर शिरडी के अलावा देश के अन्य कई शहरों में भी स्थित हैं इनमे से Mylapore Sai baba temple और Sai baba temple Injambakkam बहुत ही ज़्यादा लोकप्रिय हैं।

शक्तिशाली साई मंत्र Sai Baba Mantra For Success

साई बाबा के निम्नलिखित मंत्र बहुत ही ज़्यादा लोकप्रिय है।

  • साई राम
  • ॐ साई नाथाय नमः
  • ॐ साई नमो नमः श्री साई नमो नमः जय जय साई नमो नमः सद्गुरु साई नमो नमः
  • ॐ अजर अमराय नमः
  • ॐ शिरडी देवाय नमः
  • ॐ सर्वज्ञा सर्वदेवता स्वरुप अवतारा
  • ॐ शिरडी वासाय विद्महे सच्चिदानन्दाय धीमहि तन्नो साई प्रचोदयात

इन मन्त्रों के अलावा साई कष्ट निवारण मंत्र भी एक शक्तिशाली साई मंत्र है। आप चाहे किसी भी साई मंत्र का जाप करें बस मन में श्रद्धा और साई बाबा के प्रति विश्वास के भाव से करें तो आपको निश्चित रूप से साई बाबा की कृपा प्राप्त होगी। साई बाबा का कहना था की श्रद्धा रख और सब्र से काम ले तेरी हर इच्छा पूरी होगी। साई बाबा के अनमोल वचन आज भी सबके जीवन में बहुत प्रभाव डालते हैं। अगर आप चाहें तो हमारा लेख Sai Baba Quotes in Hindi पढ़ सकते हैं और साई बाबा द्वारा कही बातों को अपने जीवन में उतार सकते हैं।

Sai Kasht Nivaran Mantra

हमने इस लेख में आपको Sai Baba History in Hindi अर्थात साईं बाबा की जीवनी के बारे में बताया उम्मीद है की इससे आपको साई बाबा के बारे में कई अच्छी बातें सीखने को मिली होंगी। हम समय समय पर साई बाबा के बारे में और लेख प्रकाशित करेंगे जिससे हमारे पाठकों को लाभ पहुचें। आप आपके विचार हमें कमेंट के माध्यम से बता सकते हैं। आपने इस आर्टिकल को अंत तक पढ़ा इसके लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद् साई बाबा आपकी सभी इच्छाएं पूरी करें।

शेयर करें

3 thoughts on “साईं बाबा का इतिहास Sai Baba History in Hindi”

Leave a Comment